Tags

1 मिलियन bs6 टू व्हीलर बेचने वाली पहली कंपनी बनी Honda 22 अगस्त तक करे आवेदन 2020 से 2030 तक इतने बच्चे हो सकते हैं इस बीमारी के शिकार BANK NEWS : बैंकों के ब्याज दरों में आ रही तेजी से गिरावट chhattisgarh job chhattisgarh sbi job CM योगी ने रद्द किया अयोध्या दौरा Eligibility Exam Dates (Declared) GATE 2021: Application Indian premier league 2020 UAI IPL 2020 आईपीएल 2020 2020 match IPL 2020 Mirzapur 2 download Mirzapur 2 kaise download Karen Mirzapur 2 full video Mirzapur 2 Mirzapur 2 full HD video Mirzapur 2 full download Mirzapur season 2 Neet news: सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और मेडिकल विभाग से मांगा जवाब NEET SS 2020 : Neet ss आवेदन की प्रक्रिया शुरू New Education Policy 2020 : cgbse बोर्ड ने बताया कि इस साल की बोर्ड परीक्षा दो बार होगी PUBG सहित और अन्य 275 एप्स पर बैन लगा रही है भारत सरकार जारी करने वाली है लिस्ट questions SBI Bharti 2020 SBI Bharti 2021 sbi Engineer (Fire) vacancy 2020 UP की कैबिनेट की मंत्री कमल रानी वरुण का कोरोना संक्रमण से निधन WHO का अनुमान अक्टूबर तक करें आवेदन आप पैरामेडिकल मे अपना करियर चाहते हो आवेदन कि अतिंम दिन 23.अगस्त उसके लिए पैरामेडिकल की पुरी जानकारी कुछ को मिली मंजुरी कॉन्स्टेबल के लिए निकला बंपर वैकेंसी चीन के ऐप के खिलाफ सरकार की एक और कार्रवाई छत्तीसगढ़ का मौसम बदला भारी बारिश की आशंका जल्द करें आवेदन जल्द जाने पुरी जानकारी डोनाल्ड ट्रंप ने फिर से कहा hydroxychloroquine हैं covid 19 की मददगार दवा तीन युवतियों सहित 12 लोग गिरफ्तार पश्चिम रेलवे ने निकाली वेकेंसी बडा ऐलान: CM योगी ने पूर्व सैनिको की बेटियों की शादी के लिए सरकार बडा तोफह बीजापुर मे नर्स भाजपा नेता के फार्म हाउस में सेक्स रैकेट का भांडाफोड़ भारतीय वायु सेना की ताकत बढ़ाने आ रहा है राफेल भारतीय स्टेट बैंक ने 3850 पदो के लिए निकाली भर्ती रिसर्च ट्रेनी के पदो के लिए वेकेंसी लैब टेक्नीशियम सहित काई पदो पर निकली वेकेंसी संजय दत्त जेल में हुई इस लडकी के दीवाने गये थे जाने वो कौन है
March 3, 2021

कमर छठ पर्व क्यो बनाया जाता है जाने

Table of Contents

कमर छठ पर्व कि लोकप्रिय बाते :

1. इस पर्व को महिला अपने परिवार की खुशी के लिए रखती है। 2. महिलाएं इस पर्व को अपनी सतांन प्राप्ति के लिए भी करती है। 3. हर साल कमरछठ के दिन बहुत वर्षा भी होती है। 4. इस पर्व से भगवान बहुत प्रसन्न होते है।

छठ पर्व कैसे शुरू हुआ इसके पीछे कई ऐतिहासिक कहानियां प्रचलित हैं। पुराण में छठ पूजा के पीछे की कहानी राजा प्रियंवद को लेकर है। कहते हैं राजा प्रियंवद को कोई संतान नहीं थी तब महर्षि कश्यप ने पुत्र की प्राप्ति के लिए यज्ञ कराकर प्रियंवद की पत्नी मालिनी को आहुति के लिए बनाई गई खीर दी। इससे उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई लेकिन वो पुत्र मरा हुआ पैदा हुआ। प्रियंवद पुत्र को लेकर श्मशान गए और पुत्र वियोग में प्राण त्यागने लगे। उसी वक्त भगवान की मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुईं और उन्होंने राजा से कहा कि क्योंकि वो सृष्टि की मूल प्रवृति के छठे अंश से उत्पन्न हुई हैं, इसी कारण वो षष्ठी कहलातीं हैं। उन्होंने राजा को उनकी पूजा करने और दूसरों को पूजा के लिए प्रेरित करने को कहा।

राजा प्रियंवद ने पुत्र इच्छा के कारण देवी षष्ठी की व्रत किया और उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई। कहते हैं ये पूजा कार्तिक शुक्ल षष्ठी को हुई थी और तभी से छठ पूजा होती है। इस कथा के अलावा एक कथा राम-सीता जी से भी जुड़ी हुई है। पौराणिक कथाओं के मुताबिक जब राम-सीता 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे तो रावण वध के पाप से मुक्त होने के लिए उन्होंने ऋषि-मुनियों के आदेश पर राजसूर्य यज्ञ करने का फैसला लिया। पूजा के लिए उन्होंने मुग्दल ऋषि को आमंत्रित किया । मुग्दल ऋषि ने मां सीता पर गंगा जल छिड़क कर पवित्र किया और कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को सूर्यदेव की उपासना करने का आदेश दिया। जिसे सीता जी ने मुग्दल ऋषि के आश्रम में रहकर छह दिनों तक सूर्यदेव भगवान की पूजा की थी।

एक मान्यता के अनुसार छठ पर्व की शुरुआत महाभारत काल में हुई थी। इसकी शुरुआत सबसे पहले सूर्यपुत्र कर्ण ने सूर्य की पूजा करके की थी। कर्ण भगवान सूर्य के परम भक्त थे और वो रोज घंटों कमर तक पानी में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य देते थे। सूर्य की कृपा से ही वह महान योद्धा बने। आज भी छठ में अर्घ्य दान की यही परंपरा प्रचलित है। छठ पर्व के बारे में एक कथा और भी है। इस कथा के मुताबिक जब पांडव अपना सारा राजपाठ जुए में हार गए तब दौपदी ने छठ व्रत रखा था। इस व्रत से उनकी मनोकामना पूरी हुई थी और पांडवों को अपना राजपाठ वापस मिल गया था। लोक परंपरा के मुताबिक सूर्य देव और छठी मईया का संबंध भाई-बहन का है। इसलिए छठ के मौके पर सूर्य की आराधना फलदायी मानी गई।

कमर छठ पर्व में उपयोग में आने वाली चीजे

  1. जिन महिलाओं ने व्रत किया होता है
  2. व्रत के दौरान पसाई धान के चावल एवं भैंस के दूध का इस्तेमाल करती हैं। इस दिन गाय का दूध और दही उपयोग नहीं की जाती है।
  3. इस दिन जो महिलाएं व्रत करती हैं वो महुआ के दातुन से दांत साफ करती हैं।
  4. इस व्रत का समापन भैंस के दूध से बने दही से और महुवा को पलाश के पत्ते पर खाकर किया जाता है। हरछठ के दिन निर्जला व्रत किया जाता है और शाम को पसही के चावल या महुए का लाटा बनाकर व्रत का पारण किया जाता है।  

%d bloggers like this: